Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

बारिश के साथ आई किसानो के चेहरों पर मुस्कान

                                                  झमाझम बारिश से किसानों ने ली राहत की सांस

काँगड़ा,ब्यूरो रिपोर्ट 

 जिले के कई क्षेत्रों में बारिश के बाद किसान खेतों में धान की पनीरी और मक्की की बिजाई के कार्य में जुट गए हैं। बुधवार रात को कई क्षेत्रों में हुई झमाझम बारिश से किसानों ने राहत की सांस ली है। हालांकि चंगर इलाके लंज, कोटला, राजा का तालाब, फतेहपुर और नूरपुर में अभी भी सूखे की मार है। बड़ी संख्या में चंगर क्षेत्र में ऐसे किसान है, जिनके पास सिंचाई की सुविधा नहीं और उनके लिए कृषि कार्य पूरी तरह से बारिश पर निर्भर है।

दूसरी ओर बड़ी संख्या में किसानों ने खेतों में धान की रोपाई के लिए धान की पनीरी लगाई है जिसको इस बारिश से काफी फायदा हुआ है। ऐसे में किसान अब धान की खेती के लिए अच्छी बारिश का होने का इंतजार कर रहे हैं। गगल के किसान गुलजार अशोक कुमार, गुलशन, सन्नी, काकू और नवनीत आदि ने बताया कि बारिश होने से खेत में लगे धान के पौधों में फिर से जान आ जाएगी। बारिश नहीं होने के कारण धान के पौधे सूख रहे थे और खेतों में दरारें पड़ गईं थीं। बाबू राम, अनिल कुमार और सुरेश कुमार ने कहा कि बारिश से धान के पौधों को फायदा होगा, लेकिन यह बारिश पर्याप्त नहीं है।

खैरा से किसान प्रगतिशील किसान केहर सिंह और मंंजना कुमारी ने बताया कि मौसम की बेरुखी से परेशान थे। अब बारिश होने से राहत की सांस जरूर ली है। बैजनाथ के लंगू से जगदीश चंद और बंडिया खोपा से तिलक बरवाल ने बताया कि बुधवार रात को हुई बारिश से लोगों को धान की पनीरी तैयार करने के लिए राहत दी है।राजा का तालाब से किसान देवराज, शिवू जेलदार और बलदेव ठाकुर ने बताया कि क्षेत्र में अभी तक खेत सूखे पड़े हैं। इस बार देरी से ही धान की पनीरी लगेगी और देरी से ही उनके धान तैयार होंगे।






Post a Comment

0 Comments

 कई भागों में 21 जुलाई तक मानसून की बारिश जारी