Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

कैसा कानून है यह,46 साल से तारीख पर तारीख

                                                         पुलिस के हाथ नहीं लगे 1,236 मुलजिम

शिमला,ब्यूरो रिपोर्ट 

हिमाचल प्रदेश में 46 साल से लंबित आपराधिक मामलों में अदालतें तारीख पर तारीख देते थक गईं। अब मामले की पत्रावलियां मुलजिमों का इंतजार करेंगी। इन वर्षों में तारीखें बहुत लगीं, पर पुलिस मुलजिम को पेश नहीं कर सकी। मजबूरन अदालत को कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी। कोर्ट ने पत्रावलियों को दफ्तर में सुरक्षित रखने का आदेश दे दिया। अब इन फाइलों पर तब तक तारीखें नहीं लगेंगी, जब तक पुलिस को मुलजिम मिल नहीं जाते।हिमाचल में 1,236 फाइलें मुलजिमों के इंतजार में उच्च न्यायालय और जिलों की अदालतों में सुरक्षित हैं। 

राजधानी शिमला में ही सबसे ज्यादा करीब 290 मुलजिम फरार चल रहे हैं। इनमें विदेश सहित विभिन्न राज्यों के आरोपी शामिल हैं। हत्या, लूटपाट जैसे अपराधों में 6 महिलाएं भी सालों से फरार चल रही हैं। इन मलजिमों से संबंधित मुकदमे के वादी और गवाह तो अदालतों तक पहुंचे, लेकिन मुलजिमों को पुलिस अदालत में पेश नहीं कर सकीं। ज्यादातर मामलों में स्थायी वारंट जारी किए गए हैं। 100 से ज्यादा मुलजिम नेपाल के रहने वाले हैं। इसके अलावा - नाइजीरियन, यूपी, एमपी, बिहार, हरियाणा, पंजाब के अधिकतर आरोपी शामिल हैं।थाना बालूगंज से संबंधित 46 साल पुराना चोरी का मुकदमा जेएमआईसी कोर्ट में विचाराधीन है। यह मामला सात साल की कैद और जुर्माने से दंडनीय है। धन बहादुर पुत्र जार सिंह बेटनी, तहसील एवं जिला सुरखेत, नेपाल निवासी हाल निवासी जाखू, शिमला शहर मुख्य आरोपी है। 

जेल से वह जमानत पर छूटा था। अब 45 साल से फरार है। मार्च 1979 से अदालत कई बार आरोपी को कोर्ट में पेश करने के आदेश जारी कर चुकी है। मगर, आरोपी को पुलिस गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश नहीं कर सकी है। कोर्ट ने पत्रावलियों को दाखिल दफ्तर करने का आदेश दे दिया।यह मामला राजधानी के सदर थाना क्षेत्र का है। ओपी बाबर पर धोखाधड़ी का मुकदमा वर्ष 1993 में दर्ज हुआ। यह मामला सात साल की कैद और जुर्माने से दंडनीय है। मामले में कई तारीखें लगीं, जमानती और गैर जमानती वारंट जारी हुए लेकिन आरोपी फरार ही रहा। आरोपी ने पुलिस को मकान नंबर 456, विकासपुरी नई दिल्ली का पता दिया था। पुलिस ने कोर्ट को बताया कि दिए गए पते पर ओपी ओपी बराड़ नाम का कोई व्यक्ति रहता ही नहीं।





Post a Comment

0 Comments

 कई भागों में 21 जुलाई तक मानसून की बारिश जारी