Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

महिला पहलवानों के समर्थन में हिमाचल किसान सभा

                            डीवाईएफआई ने रामलीला मैदान के ऋतु रंग कला मंच पर कुछ देर धरना दिया 

जोगिन्दर नगर ,रिपोर्ट जतिन लटावा 

देश की पहलवान फेडरेशन अथवा कुश्ती महासंघ में कुछ अधिकारियों द्वारा किये जा रहे यौन उत्पीड़न व केन्द्र में भाजपा सरकार के अहंकारी रवैये के खिलाफ तथा हमारे देश की महिला पहलवानों के समर्थन में हिमाचल किसान सभा, डीवाईएफआई व अन्य संगठनों ने आज जोगिन्दर नगर में रामलीला मैदान के ऋतु रंग कला मंच पर कुछ देर धरना देने के बाद उपरोक्त संगठनों के एक प्रतिनिधिमंडल द्वारा एसडीएम कार्यालय के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को ज्ञापन भेजा गया। इस प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कुशाल भारद्वाज, रविन्दर कुमार, संजय जमवाल, अर्जुन बडवाल, प्रताप सिंह तथा महेन्द्र सिंह  ने किया। 

इस अवसर पर प्रतिनिधिमंडल की तरफ से किसान सभा के राज्य उपाध्यक्ष कुशाल भारद्वाज ने कहा कि सम्बन्धित महिला पहलवानों के साथ हुई यातनाओं और यौन उत्पीड़न के खिलाफ चल रहे संघर्ष के प्रति भाजपा सरकार के अभिमानी रवैये और आरेपियों को दिये जा रहे संरक्षण के खिलाफ आज देश भर में उपरोक्त संगठनों के आह्वान पर धरने प्रदर्शन किये जा रहे हैं। जिन महिला पहलवानों ने देश के लिए कई मैडल जीतकर देश का नाम रोशन किया उनको न्याय देने के बजाये मोदी सरकार आरोपियों को बचाने में लगी रही। आरोपियों में केंद्र की सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी का एक बाहुबली सांसद बृजभूषण सिंह भी है, जो कुश्ती महासंघ का राष्ट्रीय अध्यक्ष भी है। यह बड़े शर्म की बात है कि मुख्य आरोपियों के खिलाफ मोदी सरकार ने एफआईआर भी दर्ज नहीं होने दी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ही दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है, लेकिन भाजपा ने आरोपी से पद छोड़ने की मांग करने के बजाये पूरी ताकत आरोपियों को संरक्षण देने व बताने में लगा दी है। 

प्रतिनिधिमंडल ने मांग की कि यौन उत्पीड़न के आरोपियों को फैडरेशन के पदों से हटाया जाये तथा उऩके खिलाफ तत्काल कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाए। उन्होंने इस सारे मामले पर केंद्र सरकार व प्रधानमंत्री की चुप्पी पर हैरानी व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इस से मोदी सरकार की महिला विरोधी मानसिकता का पता चलता है। उन्होंने कहा कि बेटी बचाओ, पेटी पढ़ाओ, महिला सशक्तिकरण व नारी उत्थान के दावे करने व ढिंढोरा पीटने वाली मोदी सरकार की इस मामले में पूरी पोल खुल गयी है। इस से केंद्र की भाजपा सरकार व उसके चहेतों का चेहरा पूर्णतः बेनकाब हो गया है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर महिला पहलवानों को न्याय न मिला व उनके उत्पीड़न, शोषण, यातनाओं पर कठोर कार्रवाई न हुई तथा दोषियों को कड़ी सज़ा न मिली तो उपरोक्त संगठन जनता का बड़ा आंदोलन खड़ा करेंगे।


Post a Comment

0 Comments

काले कपड़े पहन फीस वृद्धि के खिलाफ अभाविप का अनोखा प्रदर्शन