Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

इन्साफ संस्था के अध्यक्ष ने एस डी एम को लिखा पत्र पीड़ित सीमा सूद की पुकार को मुख्यमन्त्री के ड्रीम प्रोजेक्ट "सुखाश्रय" से भी जोड़ा जाए

       कंप्यूटर इंजीनियरिंग में 98% अंकों के साथ पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री गोल्ड मैडल के साथ हासिल की है

पालमपुर,रिपोर्ट नेहा धीमान 

यह प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए समाज सेवा में समर्पित इन्साफ संस्था के अध्यक्ष एवं पालमपुर के पूर्व विधायक प्रवीन कुमार ने कहा कि सुगर ( आईमा ) निवासी  कुमारी सीमा सूद ने इन्साफ संस्था के नाम पत्र लिखकर इस तरह इन्साफ की गुहार लगाई है। पत्र में वर्णित तथ्यों के आधार पर कुमारी सीमा सूद  जिसने बिटस पीलानी से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में 98% अंकों के साथ पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री गोल्ड मैडल के साथ हासिल की है।

जैसे ही सीमा सूद की डिग्री खत्म हुई बदकिस्मती से इसे रूमेटाइड अर्थराइटिस नामक बीमारी ने जकड़ लिया । बहुत इलाज करवाया , इलाज करवाते 2  लाखों रुपए खर्च कर माता -पिता भी स्वर्ग सिधार गए परंतु कोई फर्क नहीं पड़ा। इस बीमारी के उपचार के लिए सर्जरी ही एकमात्र उपाय था जो कि बहुत महंगी थी । इस तरह मंहगे उपचार से दुखी होकर कुमारी सीमा ने महामहिम राष्ट्रपति महोदय को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की अपील कर डाली । इस पत्र की प्रति सीमा सूद ने तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रो प्रेम कुमार धूमल जी , पूर्व मुख्यमन्त्री शान्ता कुमार  व उस वक्त के स्थानीय विधायक को भी प्रेषित की । इस तरह तत्कालीन विधायक व  शान्ता कुमार  की दृढ़ता से अनुशंसा पर तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रो प्रेम कुमार धूमल जी ने कहा कि सीमा सूद को मृत्यु नहीं बल्कि सरकर जीवन दान देगी । 

उन्होंने बडे स्पष्ट शब्दों में कहा बीमारी पर जितना भी खर्च होगा इस पालमपुर की होनहार बेटी पर सरकार वहन करेगी1 इस तरह प्रो प्रेम कुमार धूमल जी की सरकार ने प्राकलन के आधार पर 10 लाख मंजूर किये । परिणामस्वरूप फॉर्टिस हॉस्पिटल मोहाली द्वारा पीड़ादायक जटिल शल्य चिकित्सा से सीमा सूद बिस्तर से उठने के काबिल हुई है। लेकिन अव भी वह अपने सहारे चल नहीं सकती । पत्र में सीमा सूद ने दिल को दहला देने वाली घटना का ज़िक्र करते हुए कहा कि यह कितनी बडी विडंबना है जो उनके साथ पढ़ते थे आज वे डेढ़ दो 2 करोड़ के पैकेज ले रहे हैं और वह इस अवस्था में अपनी बहन एवं जीजा जी के ऊपर आश्रित रोटी , इलाज व सुरक्षा के लिए मोहताज है । 

पत्र में सीमा सूद का आरोप है कि उनके पड़ोसी विभिन्न मसलों में घेर कर उन्हे परेशान कर रहे हैं । झूठे इलजाम लगा रहे हैं , झूठी शिकायत दर्ज कर रहे हैं । इस एवज़ में कुमारी सीमा का कहना है उनके पत्र पर तो नगर निगम आयुक्त महोदय ने कोई कार्यवाही अमल में नहीं लाई उल्टा उसके विरुद्ध शिकायत पर त्वरित कार्यवाही करते हुए नगर निगम आयुक्त महोदय द्वारा नोटिस व पुलिस वालों ने उन्हे थाने में तलब करने के आदेश जारी कर दिये । इस तरह के बर्ताव से आहत होकर कुमारी सीमा ने समाज सेवा में समर्पित इन्साफ संस्था के नाम पत्र लिखकर इन्साफ की गुहार लगाई है । ऐसे में पत्र में वर्णित तथ्यों के आधार पर संस्था मान्यवर उप मण्डल अधिकारी ( नागरिक ) से सादर अनुरोध करती है कि नगर निगम आयुक्त व थाना प्रभारी पालमपुर को साथ लेकर चाहे वह समस्या सीमा की है या पड़ोसियों की मौका पर उसका समाधान करने की कृपा की जाए साथ ही कुमारी सीमा की व्यथा , वेदना व पीडा पर भी नज़र डाली जाए कि उपरोक्त बीमारी से पीड़ित क्या यह बेचारी नगर निगम आयुक्त के कार्यालय या पुलिस थाना पहुँच सकती है।  इसी के साथ संस्था उप मण्डल अधिकारी जी से यह भी विनम्र आग्रह करना चाहती है कि कुमारी सीमा जैसे चुनिंदा मामलों को भी मुख्यमंत्री जी के  ड्रीम प्रोजेक्ट "सुखाश्रय " में  शामिल कर लाभान्वित करने की दृढ़ता से अनुशंसा की जाए ।



Post a Comment

0 Comments

सात एचपीएस अधिकारियो को पुलिस अधीक्षक का रूप मे नियुक्ति