Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

सिरमौर के पड़ोसी राज्यों के साथ 226 किलोमीटर क्षेत्र पर पुलिस की विशेष नजर

            सिरमौर के पड़ोसी राज्यों से लगते 226 किलोमीटर क्षेत्र पर पुलिस की कड़ी निगरानी रहेगी

सिरमौर, ब्यूरो रिपोर्ट

लोकसभा चुनावों में आदर्श आचार संहिता लागू है और पुलिस लगातार चुनावों को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न करने के लिए काम कर रही है। पुलिस की नौ अंतरराष्ट्रीय समन्वय बैठकें हुई हैं। 


पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू ने आज नाहन में एक पत्रकारवार्ता में यह जानकारी दी। एसपी और डीएसपी स्तर पर भी यह बैठकें हुई हैं, उन्होंने बताया।  जैसा कि पहले चरण में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनाव हैं। ताकि बॉर्डर को सही ढंग से सील किया जा सके, एसएचओ स्तर पर दो बार अंतरराज्यीय बैठकें करवाने का आदेश दिया गया है। 


उन्हें बताया कि सिरमौर जिले का 226 किलोमीटर सीमांत क्षेत्र है। उस पर नजर रखने के साथ-साथ चोर रास्तों पर भी पैनी नजर रखने की सलाह दी गई है। उनका कहना था कि जिला हरियाणा से 126 किलोमीटर दूर है, उत्तर प्रदेश से दो किलोमीटर दूर है और उत्तराखंड से 97 किलोमीटर दूर है। अन्य राज्यों के साथ सीमाएं होने से संवेदनशीलता बढ़ जाती है। 


ऐसे में पुलिस, सीआरपीएफ और आईटीबीपी तीन थानों में लगाए गए हैं।  सीमाओं पर भी जांच की जा रही है। सिरमौर में 19 अंतरराज्यीय नाके हैं, जिनमें से पांच उत्तराखंड में हैं और 14 हरियाणा में। उत्तराखंड से जुड़े सभी पांच नाकों और हरियाणा से जुड़े चौबीस में से सात नाकों पर कर्मचारी हैं। 


शेष काम अभी भी जारी है। उनका कहना था कि पांवटा साहिब में उत्तराखंड सीमा पर निरीक्षण किया गया है, साथ ही कालाअंब पुलिस थाना में पुलिस कर्मियों के साथ बैठक भी हुई है।  जिला में 46 प्रतिशत लोगों ने पुलिस थानों में हथियार डाल दिए हैं। उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के चुनाव से पहले, 19 अप्रैल तक पूरी तरह से हथियार जमा करने का निर्देश दिया गया है। 

सात एनडीपीएस और 17 शराब मामले पुलिस ने दर्ज किए हैं। अभी भी इसमें काफी गुंजाइश है। उन्हें बताया गया था कि आठ बॉटलिंग प्लांट हैं।  ऐसे में, आबकारी विभाग के अधिकारियों के साथ मिलकर सही निगरानी करने के लिए निर्देश दिए गए हैं। होमगार्ड गार्द को लेकर भी निर्देश दिए गए हैं। इस अवसर पर एसपी सिरमौर रमन कुमार मीणा, एएसपी योगेश रोल्टा, डीएसपी हैडक्वार्टर रमाकांत और डीएसपी पांवटा साहिब अदिति सिंह भी उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments

आशीष बुटेल के राजनीतिक प्रहार पर प्रवीन कुमार का पलट वार जव प्रदेश में आपदा आई थी तो किशन कपूर एम्स में उपचाराधीन थे