Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

हिमाचल प्रदेश के छह जिलों में भूकंप

            हिमाचल प्रदेश के छह जिलों (शिमला-कांगड़ा समेत) में रिक्टर स्केल पर 5.3 का भूकंप

शिमला , ब्यूरो रिपोर्ट

बृहस्पतिवार रात 9:35 पर हिमाचल प्रदेश के शिमला, चंबा, कांगड़ा, मंडी, कुल्लू और हमीरपुर जिले में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए। जब अचानक झटका लगा तो लोग घरों से बाहर निकल गए और खुली जगह पर चले गए। भूकंप की रिक्टर स्केल पर तीव्रता 5.3 थी। 


इन जिलों में किसी की मौत की सूचना नहीं है। उपायुक्त चंबा मुकेश रैप्सवाल ने बताया कि भूकंप से जिले में कुछ भी नुकसान नहीं हुआ है। लाहौल घाटी और कुल्लू घाटी में एक के बाद एक भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप के तीन या चार झटकों के बाद लोग रात करीब 9:35 बजे घर से भाग निकले। 


कड़ाके की ठंड में बच्चों को लेकर केलांग में लोग निकले। मनाली और कुल्लू में भी लोग घर छोड़ने लगे। गुरदेव ने कहा कि वह अपनी पोती को लेकर घर चले गए। भूकंप हुआ है, एडीएम कुल्लू अश्वनी कुमार ने बताया। मगर कहीं से नुकसान की सूचना नहीं है। चार अप्रैल 1905 की सुबह कांगड़ा में 7.8 की तीव्रता वाले भूकंप में 20 हजार से अधिक लोग मारे गए। भूकंप ने कांगड़ा और आस-पास एक लाख से अधिक इमारतें क्षतिग्रस्त कर दी थीं, और 53 हजार से अधिक मवेशी मारे गए थे। 


पृथ्वी के अंदर सात प्लेट्स लगातार घूमते हैं। जहां ये प्लेट्स ज्यादा टकराती हैं, वह जोन फॉल्ट लाइन कहलाता है। प्लेट्स के बार-बार टकराने से उनके कोने मुड़ते हैं। प्लेट्स अधिक दबाव से टूट जाती हैं। नीचे की ऊर्जा बाहर निकलती है, जिससे भूकंप होता है।  भूकंप के केंद्र में प्लेटों में हलचल से भूगर्भीय ऊर्जा निकलती है। इस स्थान पर अधिक भूकंप होते हैं। जैसे-जैसे कंपन की आवृत्ति कम होती जाती है, उसका प्रभाव भी कम होता जाता है। किंतु रिक्टर स्केल पर सात या इससे अधिक की तीव्रता वाला भूकंप चार सौ किमी के आसपास तेज होता है।


 लेकिन यह भी भूकंपीय आवृत्ति पर निर्भर करता है। कम क्षेत्र प्रभावित होगा यदि कंपन की आवृत्ति ऊपर को है। भूंकप रिक्टर स्केल से जांचा जाता है। इसे रिक्टर मैग्नीट्यूड टेस्ट स्केल कहा जाता है। भूकंप को रिक्टर स्केल पर 1 से 9 के आधार पर मापा जाता है। भूकंप का मापन एपीसेंटर से किया जाता है। इससे भूकंप के दौरान धरती के भीतर से निकलने वाली ऊर्जा की तीव्रता मापी जा सकती है। इस तीव्रता से भूकंप की भयावहता का अनुमान लगाया जा सकता है। 





Post a Comment

0 Comments

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष करेंगे प्रदेश भर में तीन चुनावी रैलियां