Ticker

6/recent/ticker-posts

Header Ads Widget

सूखे जैसे हालातों ने किसानों की बढ़ाई चिंता

                                               खेतों में नमी गायब, सब्जियां नहीं उगा पा रहे किसान

कुल्लू,ब्यूरो रिपोर्ट 

जिले में बारिश न होने के कारण सूखे जैसे हालात बन गए हैं। इसके कारण किसानों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। खेतों में नमी न होने के कारण किसान खरीफ सीजन में सब्जियां नहीं उगा पाए हैं। जिन किसानों ने सब्जियां उगाई हैं उनकी फूलगोभी, बंदगोभी, टमाटर आदि की फसलें भी खेतों में ही सूख रही हैं। 

सिंचाई की व्यवस्था न होने की वजह से किसानों को परेशान होना पड़ रहा है। जिले में करीब 3,000 हेक्टेयर में सब्जियों की पैदावार होती है। नकदी फसलें होने के कारण किसान सब्जियों को अधिक तरजीह देते हैं।जिले में पिछले करीब दो माह से पर्याप्त मात्रा में बारिश नहीं हुई है। इन दिनों मक्की के साथ फूलगोभी, बंदगोभी, खीरा, मिर्च, बैंगन, करेला, भिंडी आदि की खेती होती है, लेकिन बारिश न होने से किसानों की दिक्कतें बढ़ रही हैं। किसान समय पर उपरोक्त सब्जियों की पनीरी नहीं लगा पाए हैं। किसान बुधराम, आत्मा राम, जगदीश, सुनील ने कहा कि उन्होंने टमाटर और गोभी की पनीरी खेतों में लगानी है, लेकिन बारिश न होने से खेतों में नमी नहीं है।

\
 इस संबंध में कृषि विभाग के उपनिदेशक सुशील शर्मा ने कहा कि किसान जल्दबाजी न करें। कृषि विशेषज्ञों से परामर्श लेकर और पर्याप्त नमी होने पर ही सब्जियों को उगाएं।ग्राम पंचायत देहुरीधार और शैंशर में किसानों ने करीब 20 हेक्टेयर में फूलगोभी और बंदगोभी की फसल उगाई है, लेकिन सूखे और सिंचाई सुविधा न होने के कारण फसल सूखने लगी है। घाटी में बीते साल जुलाई में भी आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा था। भारी बारिश के कारण आई प्राकृतिक आपदा में किसानों की कई हेक्टेयर क्षेत्र में सब्जियां खराब हुई थीं। इस साल सूखे के कारण फसलें खेतों में सूख रही हैं, जो किसानों की चिंता को बढ़ा रहा है।



Post a Comment

0 Comments

 कई भागों में 21 जुलाई तक मानसून की बारिश जारी